मूसलाधार बारिश में उजड़ा गरीब का आशियाना

ब्यूरो प्रमुख – एन. अंसारी, गोरखपुर

ग्राम प्रधान धर्मवीर यादव ने 1 लाख का आर्थिक सहयोग देने का दिया आस्वाशन

बाँसगांव – गोरखपुर। बीती रात मूसलाधार बारिश होने के कारण विकास खण्ड बाँसगांव क्षेत्र के ग्राम सभा बघराई में गरीब मजदूर खुशबून निशा पत्नी यूनुस अंसारी का कच्चा मकान गिर गया। किसी तरह मजदूरी करके अपना जीवन यापन करता है। गरीब परिवार के घर के पीछे कुछ ही दूरी पर स्थित एक पोखरी है। जो पूरी तरह से भारी बारिश के कारण भर चुकी है। पोखरी के पानी की निकासी की कोई व्यवस्था नहीं है । जिसके कारण पानी पूरी अल्पसंख्यक बस्ती के चौक से लेकर पूरे रास्ते मे भर चुका है।स्थिति भयावह बनी हुई है।
इस पोखरी में गन्दे नालियों का पानी भी जाता है। जिसके कारण बदबू भी फैल चुका है। जिससे बीमारी भी फैलने की आशंका बना हुआ है।

ग्रामप्रधान ने आर्थिक सहयोग देने का दिया आश्वासन

बरसात के पानी के जलजमाव और मूसलाधार बारिश होने के कारण गरीब मजदूर की कच्ची मकान गिरने के कारण ग्राम प्रधान धर्मवीर यादव मौके पर पहुंचकर पीड़ित से कहा कि बारिश खत्म होते ही मैं अपने पास से पहले तत्काल बेसहारा मजदूर का मकान अपने पास से करीब 1 लाख लगाकर बनवाऊंगा । ताकि जल्दी ही उसके रहने की व्यवस्था सुचारू रूप से हो जाये। और सरकार के तरफ से जो योजना है , मकान गिरने का उसका भी लाभ पीड़ित परिवार को दिलवाऊंगा। ग्राम प्रधान ने बताया कि मेरे तरफ से उस परिवार को 1लाख का सहयोग मकान बनवाने में रहेगा।भारी बरसात होने के कारण घर के अगल बगल काफी जल जमाव हो गया है । पानी सूखते ही मैं अपने तरफ से तत्काल पीड़ित का घर बनवाने का काम शुरू करवा दूंगा।

ग्रामीणों ने क्या कहा जलजमाव की स्थिति को देखकर

रियाजू अली कहते है कि हमारे घर के आगे चौक से लेकर घर के पीछे तक पानी भर चुका है। हम लोगों का घर से निकलना दूभर हो गया है । हम लोगों के मकानों की भी छति हो रहा है।
संजय जायसवाल का कहना है कि आज जो स्थिति पानी के जल निकासी न होने की बनी हुई है ।हम लोगो का बाहर निकलना मुश्किल हो गया है । जलजमाव से गन्दगी फैल चुका है । क्योंकि गांव के कई नालियों का पानी भी घर के बगल के पोखरी में ही आता है।
खुशबून निशा कहती है कि हमारा घर जलजमाव और भारी बारिश के कारण गिर गया। कही भी पानी के निकासी का व्यवस्था नही है। जो पानी निकलने का पहले रास्ता था , वह अब बन्द हो चुका है । और पोखरी से काफी ऊंचाई पर सड़क भी हो गया है जिसके कारण पानी निकल नही पा रहा है।
सपा जिलासचिव हरिश्चन्द राय बबलू का कहना है कि जलजमाव के कारण इस गांव की स्थिति विकट बना हुआ है। इस समय डेंगू और मलेरिया के बीमारी के मरीजों की तादात बढ़ती जा रही है। इसलिए दवाओं का छिड़काव होना बहुत ही जरूरी हो गया है।

अगर जल्द से जल्द जल निकासी की व्यवस्था न हुई तो होगी स्थिति गम्भीर हो जाएगी। जल निकासी की व्यवस्था के लिए गांव वाले नही ध्यान दिए तो आने वाले समय मे स्थिति और विकट होने वाली है। गांव के मुख्य द्वार पर करीब 1 फुट से ऊपर पानी लगा हुआ है। दोनो तरफ की पोखरी भी भर चुकी है। उसमें गांव के लोगो के नाली का पानी भी आता है। चारो तरफ बदबू भी फैल चुका है । जो गम्भीर बीमारियों को दावत दे रही है। इसी रास्ते से पूरे गांव का निकलना होता है। जिसका कारण बड़ी आवादी है। रोड के किनारे बनी नालियां कूड़े कचरे से पट चुकी है। और यहां तक कि गांव का कन्या प्राथमिक विद्यालय महीनों से 2 फुट पानी मे डूबा हुआ है । इस पर किसी भी सक्षम अधिकारी का ध्यान नही गया। इसके साथ साथ मुस्लिम बस्ती भी पानी से डूबी हुई है। गांव के चारो तरफ जलनिकासी की व्यवस्था बन्द है।
ग्राम प्रधान धर्मवीर यादव द्वारा प्राथमिक विद्यालय में पम्पिंग सेट लगाकर कई बार पानी निकालने की कोशिश की गई। लेकिन कितना डीजल कोई प्रतिनिधि अपने पास से लगायेगा।जब भी पम्पिंग सेट ग्राम प्रधान द्वारा लगवाया जाता है। तब तब बरसात हो जाती है । जब तक उचित वयस्था जल निकासी की नही होगी तब तक हर साल बारिश में गांव वालों का निकलना मुश्किल रहेगा। इसका एक ही समाधान है, कि जब तक नालियों की पूरी तरह साफ-सफाई नही रहेगा ।और जहाँ जहाँ जल निकासी का व्यवस्था था । उस पर ध्यान नही दिया गया तो ऐसे ही स्थिति बरकरार रहेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *