जिस कोवैक्सीन पर भारत में उठ रहे थे सवाल, उसे अमेरिका ने भी बताया असरदार, 1 मई से स्पूतनिक वैक्सीन भी लगेगी

ब्यूरो रिपोर्ट- हरेन्द्र कुमार यादव

नई दिल्ली। भारत बायोटेक द्वारा विकसित कोरोना वायरस की वैक्सीन कोवैक्सीन के प्रभावी होने को लेकर तमाम सवाल खड़े किए गए थे लेकिन अब अमेरिका के महामारी विशेषज्ञ ने इसे असरदार बताया है। व्हाइट हाउस के मेडिकल एडवाइज़र एंथॉनी फाउची मंगलवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि कोवैक्सीन B.1.617 वेरिएंट यानी भारत के डबल म्यूटेंट वेरिएंट को बेअसर करने में कारगर पाई गई है। फाउची ने कहा, कोरोना के मामले रोजाना तेजी से बढ़ रहे हैं। लेकिन भारत में कोवैक्सीन लेने वाले लोगों का एक बिल्कुल हालिया डेटा कोरीना के बढ़ते मामलों के बीच राहत देने वाला है। दरअसल, कोवैक्सीन वायरस के 617 वेरिएंट को बेअसर करने में कारगर पाई गई है। वहीं देश में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच अब हर किसी को 1 मई का इंतजार है क्योंकि इस दिन से देशभर में सभी व्यस्क नागरिकों को कोरोना का टीका लगाए जाने की शुरुआत होगी। महामारी के खिलाफ इस जंग में टीकाकरण अभियान की विशेष भूमिका रहेगी। इस बीच अच्छी खबर है कि आज रात रूसी चिकित्सा सहायता के 2 विमान दिल्ली पहुंचने वाले हैं। रूसी वैक्सीन स्पूतनिक भी 1 महीने से टीकाकरण अभियान में शामिल होगा। खबर के मुताबिक आज भारत और रूस के दोनों राष्ट्र प्रमुखों के साथ गर्मजोशी से बातचीत हुई है। साथ ही दोनों देशों के बीच नए क्षेत्रों और रणनीतिक साझेदारी को मजबूत करने के लिए सहमति बनी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *