सडक पर वाईक खडी तो थानेदार करेगे चालान

ई -रिक्शा का चालान कर नगर पंचायत अमेठी

अमेठी। सरकारी और अर्ध सरकारी बिभाग दोनो ही एक सिक्के के पहलू है। दोनो का मकसद एक है। आमदनी बढाना है। इसका असर सीधै जनता पर पड रहा है। जबकि वाईक और ई-रिक्शा दोनो के वाहन स्वामी रोड टैक्स जमा किए है। अब सडक पर वाईक खडी। तो थानेदार चालान कर रहे है। मंगनी लेकर वाईक अमेठी शहर रमई,रजई आये थे ।थानेदार ने चालान आन लाईन कर दिए। चालान की जानकारी स्वामी के मोबाइल पर हुई। ई-रिक्शा का चालान टैक्सी स्टैंड ठेकेदार नगर पंचायत अमेठी के कर रहे है। ठेकेदार और थानेदार दोनो के चालान पर अमेठी शहर मे हडकंप मचा है। सासद स्मृति जुबिन ईरानी, विधायक महराजी देवी प्रजापति,अध्यक्ष नगर पंचायत चन्द्रिमा देबी अग्रहरि ,ब्लाक प्रमुख मंजू मौर्य आदि जन प्रतिनिधि सरकार और शासन प्रशासन के इस कार्यक्रम पर चुप क्यो है। किसी को समस्याओ से कोई लैना नही है। जनता सूखा,मंहगाई,बेरोजगारी,आवारा गाय बछडे से परेशान है। शहर मे पुलिस,बसूली वाले लोगो से परेशान है। चुनाव सिर पर है। लेकिन सरकार के तूफान और अंधड मे सब एक दूसरे को पिछडने मे लगे है। बिपक्ष को जाच ऐजेन्सी मे फंसा रखा है। लेकिन मजबूर जनता इन्साफ के लिए चक्कर पर चक्कर काट रही है। जीएसटी और नान जीएसटी एक ही पैने से सरकार और शासन हक रहा है। जो फकीर के खिलाफ आवाज बुलंद करेगा। उसे बन्द करने मे लोग-बाग एकजुट है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *