माता पिता और बड़ो का कहना मानने वाला पुत्र सबसे बड़ा भाग्यशाली होता हैं – बालयोगी संजय जी महाराज।

माता पिता और बड़ो का कहना मानने वाला पुत्र सबसे बड़ा भाग्यशाली होता हैं – बालयोगी संजय जी महाराज।
अंजान शहीद -(स्टेट मीडिया)


आज़मगढ़ जनपद में अन्तरराष्ट्रीय सन्त बालयोगी संजय जी महाराज का आज भब्य स्वागत वेदान्ता इंटरनेशनल स्कूल के प्रांगड़ में संस्था के संरक्षक ब्रम्हदेव सिंह ने मुख्य द्वार पर माल्यार्पण व अर्चना श्रीवास्तव तथा उजाला गुप्ता ने बच्चों के साथ आरती उतारकर व तिलक लगाकर किया। भंवरनाथ मंदिर पर चल रहे श्री रुद्र चण्डी महायज्ञ के दौरान वेदान्ता इंटरनेशनल स्कूल पर पधारे बालयोगी संजय जी महाराज का परेड व फूल मालाओं के साथ स्वागत किया गया। इस दौरान महाराज ने शिक्षा के साथ ही संस्कार पर ज़ोर देते हुवे कहाकि वो पुत्र सबसे बड़ा भाग्यशाली होता है जो अपने माता पिता के वचनों का पालन करता हैं। इसको आगे बताते हुए उन्होंने कहाकि हम खुद जब भी कही बाहर जाते हैं तो अपनी माता का सात बार परिक्रमा करके ही जाते हैं। महाराज जी ने कहाकि चन्दन, अबीर, तिलक लगाने का उतना फायदा नहीं हैं जितना हम अपने माता पिता के चरणों की धूल अपने मस्तक पर लगाकर पाते हैं। उन्होंने कहाकि माता के दूध जैसा कोई मिठाई नहीं और जिसके पास माँ नही है उससे बड़ा कोई अभागा नहीं। अपने सम्बोधन में उन्होंने शिक्षकों को उनके महत्व और उनके कार्य की महत्ता को बताते हुवे कहाकि किसी भी राष्ट्र के विकास में आपके ब्यक्तित्व और कृतित्व का बहुत ही योगदान होता है, आप (गुरु) जैसा पूज्य कोई दूसरा नहीं। इसी क्रम में उन्होंने धन के लोभ के बारे में कहाकि निर्धन कहे धनवान सुखी, धनवान कहे सुख राजा को भारी, राजा कहे महराज सूखी, महराज कहे सुख इन्द्र को भारी, इन्द्र कहे सुख सन्तन को, संत कहे संतोष सुखी अर्थात सुख किसी को भी नहीं है जिसको संतोष हैं केवल वही सुखी हैं।


इस अवसर पर अर्चना सिंह व शोभा सिंह ने महराज जी को अंगवस्त्रम व पुष्प भेंटकर आशीर्वाद प्राप्त किया। माल्यार्पण करने वालों में शिव गोविंद सिंह, सिद्दार्थ सिंह, बृजेन्द्र पाण्डे, रूपेश सिंह, ओमप्रकाश यादव, मामा, प्रभाकर सिंह, चन्दन राय, सुनील त्रिपाठी, अजय श्रीवास्तव आदि रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *