गोरखपुर: शोपीस बनकर रह गया सामुदायिक शौचालय: भुगतान हो गया पूरा, काम रह गया अधूरा

गोरखपुर: गगहा ब्लाक अंतर्गत चाड़ी गांव को स्वच्छ रखने एवं ग्रामीणों को स्वच्छता का संदेश देने के उद्देश्य सें ग्राम पंचायत चाड़ी में सामुदायिक शौचालय का निर्माण कराया गया। लेकिन रख-रखाव एवं जागरुकता के अभाव में ग्राम पंचायतों में अवस्थित सामुदायिक शौचालय अपने मूल उद्देश्यों को प्राप्त नहीं कर पा रहे हैं।

साफ-सफाई एवं स्वच्छता किट के नाम पर धन का बंदरबांट जारी है। इस ग्राम पंचायत में स्वच्छता का संदेश देने व शौचालयों के प्रति जन जागरुकता पैदा करने के उद्देश्य से सामुदायिक शौचालय का निर्माण कराया गया है । निर्माण के समय हुए धन के बंदरबांट के चलते कहीं नल नहीं लग पाया तो कहीं शौचालय का निर्माण पूरा दिखा दिया गया।  अधिकारी बस फोटो लेकेर कोरम पूर्ती कर रहे हैं। अंदर न तो सीट लगी है न फर्श बना है। बात इतने पर आकर खत्म नहीं हो रहा है। साथ ही साथ स्वच्छता किट का पैसा भी कौड़ियों के भाव उड़ाया जा रहा है। अधिकारी भी पूरे मामले में जांच के दौरान मलाई मिल जाने पर ‘अपना काम बनता, भाड़ में जाए जनता’ के सिद्धान्त पर काम कर रहे हैं ।

वर्ष 2021 में सामुदायिक शौचालय के निर्माण की योजना शुरू की गयी थी। जिसमें 60 प्रतिशत शौचालय प्रधानी चुनाव में सम्पन्न हो जाने के बावजूद अधूरे है। लेकिन भुगतान 5 से 6 लाख हो चुके है। गांव के राजेश कुमार राय  ने बताया कि शौचालय बाहर से देखने में पूर्ण है लेकिन अधूरे है। इसका भुगतान पूर्व ग्रामप्रधान व ग्रामसचिव ने मिलीभगत से करा लिया| इस मामले अधिकारियों को लिखित सूचना देने पर अभीतक कोई सुनवाई नहीं हो रही है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *