राज्य महिला आयोग की उपाध्यक्षा ने की महिला उत्पीड़न संबंधी मामलों की सुनवाई किया।

  • निरीक्षण भवन अमेठी में जिला स्तरीय अधिकारियों के साथ की समीक्षा बैठक कर दिए आवश्यक दिशा निर्देश
  • महिला उत्पीड़न की रोकथाम एवं पीड़ित महिलाओं को त्वरित न्याय दिलाये…… अंजू चौधरी।

ब्यूरो रिपोर्ट- प्रेम कुमार शुक्ल, अमेठी

अमेठी| महिला उत्पीड़न मामलों में त्वरित न्याय दिलाने के लिये उ0प्र0 राज्य महिला आयोग की उपाध्यक्षा श्रीमती अंजू चौधरी ने आज लोक निर्माण विभाग अमेठी के निरीक्षण गृह में जिला प्रोबेशन अधिकारी, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी, जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी, जिला दिव्यांग कल्याण अधिकारी, जिला समाज कल्याण अधिकारी, पुलिस क्षेत्राधिकारी गौरीगंज गुरमीत सिंह, महिला थाना अध्यक्ष कंचन सिंह व स्वास्थ्य विभाग सहित अन्य संबंधित जिला स्तरीय अधिकारियों के साथ महिला उत्पीड़न से संबंधित मामले के निवारण की स्थिति महिलाओं पर हो रहे अत्याचार/उत्पीड़न को प्रभावी रूप से नियंत्रित करने एवं उन्हें त्वरित न्याय दिलाए जाने को लेकर समीक्षा बैठक की। राज्य महिला आयोग की उपाध्यक्ष ने समस्त सम्बन्धित अधिकारियों को कड़े निर्देश देते हुए कहा कि शासन की प्राथमिकता है कि महिलाओं की उत्पीड़न जैसे जघन्नय अपराधों पर प्रभावी नियंत्रण व रोकथाम लगाया जाए जिससे कि वे स्वावलंबी/ आत्मनिर्भर हो सके इसके साथ ही उन्होंने कहा कि बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के तहत हर बालिका को सशक्त बनाया जाए जिसके लिए शासन द्वारा विभिन्न कार्यक्रमों को संचालित कर उन्हें जागरूक भी किया जा रहा है। आयोग की उपाध्यक्ष ने शासन द्वारा संचालित बाल कल्याण योजना की समीक्षा बैठक की जिसके संबंध में जिला प्रोबेशन अधिकारी ने बताया कि जनपद में अब तक कोविड-19 के कारण 27 बच्चे प्रभावित हुए हैं जिनमें 9 बालिकाएं 15 बालक है जिनके माता अथवा पिता में से किसी एक का कोविड-19 संक्रमण के कारण मृत्यु हो गई है व 02 बालक जिनके माता व पिता दोनों की मृत्यु हो चुकी है। उन्होंने कहा कि शासन द्वारा बाल कल्याण योजना के तहत कोविड-19 के दौरान प्रभावित हुए बच्चों के परिवरिसकर्ता को प्रतिमाह 4000 रुपए दिया जाता है।
समीक्षा बैठक के उपरांत आयोग की उपाध्यक्षा ने महिला उत्पीड़न संबंधी मामलों की सुनवाई की आज सुनवाई के दौरान कुल 10 महिलाओं ने घरेलू हिंसा, दहेज उत्पीड़न, बलात्कार, अवैध कब्जा पहली पत्नी के रहते दूसरी शादी आदि मामलों को लेकर उपाध्यक्ष को शिकायती पत्र दिया व शिकायत करने वाली महिलाओं ने थाने पर आरोप लगाते हुए कहा कि उनकी सुनवाई नहीं की जा रही है, प्रतिपक्ष द्वारा लगातार प्रताड़ित किया जा रहा है जिस पर उपाध्यक्ष द्वारा संबंधित थाना अध्यक्ष व संबंधित अधिकारियों को दूरभाष के माध्यम से निर्देशित करते हुए कहा कि जो भी महिलाएं अपना शिकायती पत्र देती हैं उस पर त्वरित कार्यवाही कर उन्हें उचित न्याय दिलाएं। इसके साथ ही उन्होंने समस्त संबंधित को कड़ी चेतावनी देते हुए कहा कि किसी भी स्थिति में घूस लेते हुए पाए जाने पर संबंधित के विरुद्ध कड़ी कार्यवाही की जाएगी। राज्य महिला आयोग की उपाध्यक्ष ने शिकायतों के निस्तारण हेतु संबंधित अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि सभी मामलों का ससमय निस्तारण कराकर रिपोर्ट उपलब्ध कराएं। आयी हुई समस्त शिकायतों कों सम्बन्धित थाने के थानाध्यक्षों को भेजने का निर्देश प्रोबेशन अधिकारी व व महिला थानाध्यक्ष कंचन सिंह को राज्य महिला आयोग की उपाध्यक्ष ने दिया और कहा कि इन शिकायतों का तत्काल निस्तारण कराये। उन्होंने यह भी कहा कि महिलायें अपने उत्पीड़न सम्बन्धी कोई भी शिकायत उपस्थित होकर शिकायती प्रार्थना पत्र दे सकती है। जिसकी सुनवाई के लिये महिला आयोग द्वारा त्वरित निस्तारण के लिये कार्यवाही की जायेगी। उ0प्र0 राज्य महिला आयोग की उपाध्यक्ष ने कहा कि महिलाओं के उत्पीड़न से सम्बन्धित जो भी शिकायतें पुलिस विभाग में आये उसके निस्तारण में लापरवाही न बरती जाये अगर यदि पुलिस विभाग द्वारा लापरवाही की जायेगी तो सम्बन्धित के खिलाफ कार्यवाही की जायेगी। उपाध्यक्ष ने निर्देशित करते हुए कहा कि निराश्रित बच्चों को शासन द्वारा संचालित योजनाओं का लाभ दिलाकर उनकी रहन सहन व खान पान का उचित प्रबंध करें। इस मौके पर जिला समाज कल्याण अधिकारी आर के शर्मा, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी अरविंद पाठक, जिला प्रोबेशन अधिकारी अनिल मौर्य, संरक्षण अधिकारी अजय यादव, पुलिस क्षेत्राधिकारी गौरीगंज गुरमीत सिंह, महिला थानाध्यक्ष गौरीगंज कंचन सहित अन्य संबंधित अधिकारी मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *