राष्ट्रीय पोषण माह को लेकर जिलाधिकारी ने की समीक्षा।

30 सितम्बर 2022 तक चलेगा ’राष्ट्रीय पोषण माह’ कार्यक्रम…..जिलाधिकारी।

अमेठी, जिलाधिकारी राकेश कुमार मिश्र ने आज कलेक्ट्रेट सभागार में 01 से 30 सितंबर 2022 तक मनाए जा रहे राष्ट्रीय पोषण माह को लेकर समीक्षा किया एवं संबंधित अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिए। बैठक में जिला कार्यक्रम अधिकारी संतोष श्रीवास्तव ने बताया है कि महिला एवं बाल विकास मंत्रालय भारत सरकार के निर्देशानुसार माह सितम्बर, 2022 को राष्ट्रीय पोषण माह के रूप में मनाया जा रहा है। इसी क्रम में जनपद में पंचम राष्ट्रीय पोषण माह का शुभारम्भ 01 सितम्बर, 2022 से किया गया है, जो 30 सितम्बर, 2022 तक चलाया जायेगा। पोषण अभियान एक बहु-मंत्रालयी कन्वर्जेन्स मिशन है, जो मा० प्रधानमंत्री जी के विजन ’सुपोषण भारत’ (कुपोषण मुक्त भारत) पर आधारित है। पोषण अभियान के प्रभावशाली क्रियान्वयन हेतु जन आन्दोलन और सामुदायिक भागीदारी से सम्पन्न कराया जा रहा हैं। जिसमें सम्बन्धित विभागों के समन्वय से ग्रामीण स्तर पर ग्राम प्रधान की अध्यक्षता में गठित ग्राम पंचायत की विभिन्न समितियों के माध्यम से पोषण पंचायत आयोजित करते हुए पोषण अभियान को जन आन्दोलन से जन भागीदारी की ओर उन्मुख किया जायेगा। इसमें पोषण पंचायत, पोषण जन आंदोलन तथा कन्वर्जेन्स के माध्यम से आंगनवाडी केन्द्र को ’सक्षम’ आंगनवाडी केन्द्र बनाने की प्रकिया पर विशेष महत्व दिया जायेगा।
उन्होने बताया कि भारत सरकार द्वारा पोषण 2.0 के अन्तर्गत इस वर्ष के पोषण माह का मुख्य फोकस अंतर्विभागीय समन्वय स्थापित करते हुये पंचायत स्तर पर पोषण गतिविधियों को संपादित की जानी हैं। पोषण माह हेतु मुख्य थीम जैसे- महिला और स्वास्थ्य, बच्चा एवं शिक्षा पोषण भी पढ़ाई भी, लैंगिक संवेदनशीलता आधारित पेयजल संरक्षण एवं प्रबन्धन, जनजातीय क्षेत्रों में महिलाओं एवं बच्चों हेतु परम्परागत खाद्य समूह का प्रोत्साहन आदि पर आधारित है। उक्त सभी थीम पर कार्य करने हेतु आई०सी०डी०एस० के साथ-साथ अन्य विभाग यथा स्वास्थ्य, पंचायती राज, शिक्षा, ग्राम्य विकास विभाग की अहम भूमिका है।
उन्होने बताया कि पोषण माह के दौरान विभिन्न गतिविधियां संपादित की जायेंगी। जिसमें पोषण पंचायत का गठन व क्रियाशीलता तथा पोषण पंचायत के माध्यम से पोषण गतिविधियों की गुणवत्ता सुनिश्चित करना, संभव अभियान का आयोजन, स्वस्थ्य बालक-बालिका प्रतियोगिता का आयोजन, स्कूल केन्द्रित गतिविधियां जैसे-स्कूलों में पोषण मेले का आयोजन, निबन्ध प्रतियोगिता, आंगनवाड़ी केन्द्र एवं सामुदायिक भूमि पर पोषण वाटिका को बढ़ावा देना तथा जन आन्दोलन के माध्यम से संवेदीकरण आदि कार्य सम्पादित किये जायेंगे। बैठक में जिलाधिकारी ने संबंधित अधिकारियों को जनपद की सभी आंगनवाड़ी केंद्रों पर उक्त सभी कार्यक्रम आयोजित करने के निर्देश दिए, उन्होंने कहा कि सभी कन्वर्जेंस विभाग आपसी समन्वय बनाकर राष्ट्रीय पोषण माह अभियान को सफल बनाएं। बैठक के दौरान मुख्य विकास अधिकारी डॉ अंकुर लाठर, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ विमलेंदु शेखर, जिला कार्यक्रम अधिकारी संतोष श्रीवास्तव, डीसी एनआरएलएम सुनील तिवारी सहित अन्य संबंधित अधिकारी व सीडीपीओ मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *