महाराष्ट्र में सत्ता परिवर्तन की सुगबुगाहट, फिर बीजेपी से हाथ मिलाएगी शिवसेना

ब्यूरो रिपोर्ट- सुनील विष्णु चिलप

मुंबई| ‘बीजेपी से हाथ मिलाने’ से जुड़े अपने विधायक प्रताप सरनायक के पत्र को ज्यादा भाव ना देते हुए शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना में लिखा है कि, ‘जिन लोगों को महाराष्ट्र की सत्ता संरचना में परिवर्तन के संकेत दिखाई दे रहे हैं, वे राजनीति में कच्चा नींबू हैं|’ मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को लिखे गए पत्र में प्रताप सरनायक ने कहा था कि इससे पहले कि बहुत ज्यादा देर हो जाए मुंबई और थाणे जैसे आगामी निगम चुनावों को देखते हुए शिवसेना को अपने पूर्व सहयोगी के साथ हाथ मिला लेना चाहिए| सरनाईक ने 10 जून के अपने पत्र में कहा है कि BJP से गठबंधन टूट गया है, लेकिन युति के नेताओं के बीच व्यक्तिगत और सौहार्दपूर्ण संबंध बने हुए हैं। विधायक ने अपने पत्र में कहा है कि बहुत देर होने से पहले मेलमिलाप करना बेहतर रहेगा। शिवसेना विधायक सरनाइक की अपील पर पलटवार करते हुए पार्टी के मुखपत्र सामना ने मंगलवार को कहा कि जिन्हें लगता है कि यह महाराष्ट्र में सत्ता परिवर्तन का संकेत है, वे राजनीति में कच्चे नींबू हैं।

शिवसेना विधायक की यह टिप्पणी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा हाल ही में दिल्ली में आधिकारिक आवास पर सीएम उद्धव ठाकरे के साथ आमने-सामने बैठक के बाद आई है। हिंदुस्तान टाइम्स की एक रिपोर्ट में शिवसेना के एक वरिष्ठ नेता के हवाले से कहा गया है कि मोदी के साथ बैठक आधे घंटे तक चली, जिसमें ठाकरे ने राजनीतिक मुद्दों पर बात की।

आपको बता दें कि पीएम मोदी के साथ अलग से मुलाकात के सवाल पर ठाकरे ने कहा था कि नवाज शरीफ से मिलने नहीं गया। मोदीजी से व्यक्तिगत रूप से मिलने में कुछ भी गलत नहीं है। हाल ही में कांग्रेस की ओर से अकेले विधानसभा चुनाव लड़ने की बात पर सीएम ठाकरे की ओर से चप्पल वाली एक चेतावनी दिए जाने पर बवाल मच गया है। राज्य कांग्रेस प्रमुख नाना पटोले ने कहा गया था कि पार्टी अपने दम पर भविष्य का चुनाव लड़ेगी।

उद्धव ठाकरे ने शनिवार को इशारों-इशारों में स्थानीय कांग्रेस नेताओं पर पलटवार करते हुए कहा कि जो लोगों की समस्याओं का समाधान किए बिना अकेले चुनाव लड़ने की बात करेगा, उन्हें लोग जूते से पीटेंगे। महाराष्ट्र में कांग्रेस चीफ नाना पटोले और अन्य लोकल नेता के अकेले चुनाव लड़ने वाले बयान पर मचे घमासान के बीच ठाकरे की यह प्रतिक्रिया आई है।

उद्धव ठाकरे नीत पार्टी के भगवा पार्टी के साथ गठबंधन से अलग होने के बाद शिवसेना ने NCP और कांग्रेस के साथ मिलकर 2019 में महा विकास आघाड़ी सरकार बनाई थी। मुंबई सहित महाराष्ट्र के कई शहरों में नगर निकाय चुनाव होने हैं। शिवसेना के मुखपत्र सामना में पीएम नरेंद्र मोदी को पिछले दिनों देश का सबसे बड़ा नेता बताया गया था।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *