श्रीमती अनीता सचान राज्य महिला आयोग सदस्य उत्तर प्रदेश लखनऊ ने जनपद अमेठी में महिला उत्पीड़न से संबंधित की जनसुनवाई

ब्यूरो रिपोर्ट – प्रेम कुमार शुक्ल, अमेठी

अपराधियों के खौफ से शासनिक प्रशासनिक अधिकारी नतमस्तक

अमेठी | उत्तर प्रदेश आज दिनांक 1 सितंबर 2021 को अमेठी गेस्ट हाउस में महिला उत्पीड़न से संबंधित की गई जनसुनवाई
महिलाओं के ऊपर हो रहे अनैतिक रूप से यौन शोषण उत्पीड़न व घरेलू हिंसा की हुई शिकार महिलाएं अपनी व्यथा सुनाई एक मामला शांति देवी पत्नी रवि भूषण मिश्र भाजपा बूथ अध्यक्ष का आया जो कि शांति देवी का सगा ससुर कृष्ण देव मिश्र महिला अपराध अनुसंधान विभाग उत्तर प्रदेश सीबीसीआईडी लखनऊ से रिटायर्ड एवं शांति देवी को अपने यौन शोषण के अधीन कर ही लिया था क्योंकि वह मंद बुद्ध की हो गई थी जिसके चलते कृष्ण देव मिश्र रिटायर्ड के बाद 10 जून 2015 में अपने पुत्र की दूसरी शादी असत्य बोलकर मधु मिश्रा पुत्री सतगुरु प्रसाद तिवारी निवासी ग्राम शिवली थाना क्षेत्र शुकुल बाजार जनपद अमेठी से करवा दिया अपने को कानून से बचने का सुरक्षा कवच पहना जैसे अपने पुत्र को अपनी संपत्ति से बेदखल कर और पुत्र के संपत्ति के हिस्से की जमीन वसीयतनामा कर दिया और हवस का शिकारी कृष्ण देव मिश्र मधु मिश्रा से भी वह जबरन यौन संबंध बनाया मधु मिश्रा के मुंह खोलने पर मारपीट की अपने अन्य दो पुत्रों देवेंद्र कुमार वा जितेंद्र कुमार को ललकार कर रवि भूषण मिश्र शांति देवी मधु मिश्रा को मरवाया पिटवाया और पुलिस विभाग में कहीं भी सुनवाई नहीं हुई ना ही मेडिकल करवाया गया बल्कि तीनों को घर से निकाल भी दिया यहां तक कि घर में रहने भी नहीं दे रहा है ऐसा पिता एवं पीने को पानी भी नहीं दे रहा है पानी में ताला लगा रखा है जबकि व्यवस्थाएं रवि भूषण मिश्र की हैं |
उक्त प्रकरण को सुनकर राज्य महिला आयोग सदस्य ने गंभीरता से लेते हुए अधीनस्थ कर्मचारियों से बात की एवं अगले दिवस पर न्याय दिलाने का पूरा आश्वासन भरोसा दिलाया|
कार्तिकेय मिश्र वा मधु मिश्रा पत्नी रवि भूषण मिश्र तीनों का जीवन अंधकार में हो गया है एक मामला सरस्वती पत्नी ध्रुवराज कोरी निवासी गिरधर शाह कोरारी का आया जिनको प्रधानमंत्री आवास की आवश्यकता है परंतु स्थानीय विरोधी जनप्रतिनिधि के चलते संबंधित अधिकारी भी नहीं सुनते जिनको आवास दिलाने का आश्वासन राज्य महिला आयोग ने दिया एवं एक मामला अनीता देवी मुंशीगंज आदि ने अपनी पीड़ा बताई थानाध्यक्ष व क्षेत्राधिकारी कहते हैं कि बगैर सबूत के मुकदमा नहीं लिखा जाता ऑडियो वीडियो सबूत होते हुए भी महोदय मुकदमा लिखने में आनाकानी कर रहे हैं किस प्रकार का सबूत उनको चाहिए पुलिस विभाग के अधिकारियों को फटकार लगाती हुई राज्य महिला आयोग सदस्य ने निर्देशित किया पूर्व में की गई शिकायतें लंबित पड़ी हुई हैं जिस पर कोई कार्यवाही आज दिन तक नहीं की गई अब देखना है पीड़ित महिलाओं को कहां तक न्याय मिलता है  |अपराधी किस्म के व्यक्ति यौन शोषण महिला उत्पीड़न पर लगे हुए हैं|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *