पीएम आवास योजना के बिचौलियों को तलाश रही सीएम की टीम

ब्यूरो प्रमुख – एन. अंसारी, गोरखपुर

*लाभार्थियों को फोन कर की जा रही पूछताछ*

*सीएम कैंप कार्यालय को प्रधानमंत्री आवास योजना के लाभार्थियों की मोबाइल फोन नंबर सहित सूची दी गई है। कैंप कार्यालय से लाभार्थियों को Of फोन कर पूछा जा रहा है क‍ि आवास द‍िलाने के नाम पर उनसे पैसों की मांग तो नहीं की गई है* ?

गोरखपुर। प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ पात्र व्यक्ति को बिना किसी अड़चन के मिले। आवास का हक पाने के लिए उसे किसी कर्मचारी या बिचौलिए का शिकार न हाेना पड़े। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गोरखपुर में यह सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी मुख्यमंत्री कैंप कार्यालय को सौंपी है। मिली जिम्मेदारी को निभाने में कार्यालय प्रभारी सहित सभी कर्मचारी जुट गए हैं। वह लाभार्थियों से संपर्क साधकर वस्तुस्थिति की जानकारी ले रहे हैं। इस क्रम में एक लाभार्थी ने आवास की प्रक्रिया पूरी करने के लिए सर्वेयर द्वारा 2500 रुपये रिश्वत के तौर पर लेने की शिकायत दर्ज कराई है। कैंप कार्यालय की टीम शिकायत की हकीकत जानने में जुट गई है।
फिलहाल कैंप कार्यालय को प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी के लाभार्थियों की मोबाइल फोन नंबर सहित सूची दी गई है। जिले में 890 लाभार्थी हैं, जिन्हें आवास बनाने के लिए पहली किश्त जारी की जा चुकी है। पहली किश्त की शर्त पूरी करने के बाद उन्हें दूसरी किश्त जारी की जाएगी। इसकी औपचारिकताओं को पूरा करने के क्रम में कर्मचारियों, सर्वेयरों और दलालों द्वारा रिश्वत के लिए कुछ लाभार्थियों को परेशान किया जा रहा है, इसकी शिकायत मुख्यमंत्री तक पहुंची हैं। जिसके बाद मुख्यमंत्री ने कैंप कार्यालय को यह जिम्मेदारी सौंपी है। चिन्हित कर्मचारी, सर्वेयर या फिर दलाल के खिलाफ कार्रवाई कमिश्नर के माध्यम से सुनिश्चित की जाएगी। इस क्रम कैंप कार्यालय के कर्मचारी करीब 80 लाभार्थियों से संपर्क कर चुके हैं, जिसमें से एक लाभार्थी से सर्वेयर द्वारा रिश्वत मांगने की बात सामने आई है।
*शिकायत पर जारी किया गया है फोन नंबर*
वैसे तो कैंप कार्यालय के कर्मचारी लाभार्थियों से संपर्क कर रहे हैं लेकिन यदि कोई लाभार्थी खुद भी रिश्वत या परेशान करने को लेकर किसी कर्मचारी या दलाल की शिकायत करना चाहता है तो वह कार्यालय में फोन कर सकता है। इसके लिए कार्यालय की ओर से मोबाइल फोन नंबर (7007985516) जारी किया है।
प्रधानमंत्री आवास योजना के लाभार्थियों को कर्मचारियों और बिचौलियाें द्वारा परेशान किए जाने शिकायतें निरंतर मिली हैं। इसका संज्ञान मुख्यमंत्री ने लिया है। कैंप कार्यालय ऐसे लोगों की तलाश में जुट गया है, जो पात्रता होने के बावजूद लाभार्थियों को योजना का लाभ देने के लिए तरह-तरह से परेशान कर रहे हैं। ऐसे लोगों की सूची तैयार कर उनके खिलाफ प्रशासन द्वारा कार्रवाई सुनिश्चित कराई जाएगी। – *मोती लाल सिंह, प्रभारी, मुख्यमंत्री कैंप कार्यालय*।

Leave a Reply

Your email address will not be published.