गोकुलधाम में मनाया गया भगवान विश्वकर्मा पूजनोत्सवसंसार की रचना ब्रह्मा जी व सुंदर बनाने का कार्य विश्वकर्मा जी ने किया: कुलदीप पाण्डेय

संवाददाता-बी.पी.मिश्र,गोरखपुर
गोरखपुर| सामाजिक संगठन युवा जनकल्याण समिति द्वारा संचालित भारतीय युवा जनकल्याण समिति के‌ तत्वाधान में केन्द्रीय कार्यालय राजेंद्र नगर पश्चिमी गोकुलधाम में संगठन के संचालक व प्रदेश अध्यक्ष युवा समाजसेवी कुलदीप पाण्डेय ने शिल्पकार भगवान विश्वकर्मा जी कि जयंती पर श्रद्धा व आस्था पूर्वक पूजन अर्चन किये।
इस दौरान युवा समाजसेवी कुलदीप पाण्डेय ने भगवान विश्वकर्मा जी की प्रतिमा पर तिलक चंदन लगाकर पुष्प व माल्यार्पण करते हुए धूप-दीप प्रज्वलित कर आरती किए तथा विश्व व राष्ट्र के रक्षार्थ हेतु कामना किये।
कुलदीप पाण्डेय ने विश्वकर्मा जी को स्मरण करते हुए उनके बारे में संक्षिप्त में वर्णन करते हुए कहा कि भगवान विश्‍वकर्मा जी की जयंती प्रत्येक वर्ष कन्‍या संक्रांति के दिन मनाई जाती है तथा सनातन धर्म में विश्वकर्मा जी को निर्माण व सृजन का देवता माना जाता है।
विश्‍वकर्मा पूजा के दिन विशेष तौर पर औजारों, निर्माण कार्य से जुड़ी मशीनों, दुकानों, कारखानों आदि की पूजा की जाती है. विश्वकर्मा जी को सफेद फूल अर्पित करना कल्याणकारी होता है।
कहा जाता है कि विश्वकर्मा जी की पूजा से जीवन में कभी भी सुख समृद्धि की कमी नहीं रहती है।
साथ ही पाण्डेय जी ने यह भी बताया कि संसार की रचना ब्रह्मा जी ने की है और उसे सुंदर बनाने का कार्य विश्वकर्मा जी को दिया गया है। इसी कारण विश्वकर्मा जी को संसार का सबसे पहला और बड़ा इंजीनियर कहा जाता है.।
ऐसी भी मान्यता है कि भगवान विश्वकर्मा ब्रह्मा जी के पुत्र वास्तु की संतान थे तथा वहीं ये भी माना जाता है कि भगवान शिव के लिए त्रिशूल, विष्णु जी का सुदर्शन चक्र और यमराज जी के कालदंड, कृष्ण जी की द्वारका, पांडवों के लिए इंद्रप्रस्थ, रावण की लंका एवं इन्द्र के लिए वज्र समेत कई चीजों का निर्माण भगवान विश्वकर्मा द्वारा किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.