दहशत भरा जिला पंचायत अध्यक्ष का चुनाव, सपा-भाजपा में आमने-सामने टक्कर

ब्यूरो रिपोर्ट- प्रेम कुमार शुक्ल

अमेठी। नवसृजित अमेठी जिलें में जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए तीसरा चुनाव होगा। पहलें अनुसूचित महिला सीट पर कमला देवी (कांग्रेस) जिलें की प्रथम नागरिक बनी। दूसरा चुनाव पिछडी जाति महिला सीट पर शिवकली मौर्या (सपा) चुनकर आयी। अब तीसरा चुनाव सामान्य जाति के लिए है जिस पर दो उम्मीदवार अध्यक्ष पद के लिए आमने-सामने है। समाजवादी पार्टी समर्थित प्रत्याशी शीलम सिंह है तो भारतीय जनता पार्टी समर्थित राजेश कुमार अग्रहरी प्रत्याशी है। 3 जुलाई को 11 बजे से तीन बजे के बीच में मतदान में 36 जिला पंचायत सदस्य मतदान में शामिल होंगे।

 

जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए मतदान करने वाले जिला पंचायत सदस्यों की राजनैतिक दल और निर्दलीयों की गणना ऐसी है जिसमें सपा के आठ, भाजपा के नौ, कांग्रेस के दो, बसपा दो, लोकतांत्रिक जनसत्तादल के एक, निर्दलीय चौदह जिला पंचायत सदस्य है। अब देखना है कि बसपा कांग्रेस और लोकतांत्रित जनसत्ता दल किसके साथ चुनाव में मतदान करेगा। कुछ भी हो यह चुनाव निर्दलीयों के सहारे जिला पंचायत अध्यक्ष का चुनाव तय होगा।

 

जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए सपा की शीलम सिंह और भाजपा के राजेश कुमार अग्रहरी के बीच आमने-सामने टक्कर होने जा रही है। इस चुनाव में जिला पंचायत सदस्यों को पुलिस के दो सुरक्षा बल पखवारें भर से डयूटी दे रहे है। गांव-शहर में चर्चा है कि जिला पंचायत सदस्य सुरक्षा बल लगने से दहशत में है। किससे बात हुई कहां गये, कहां आये क्या कर रहे संगीनों के साये में पन्द्रह दिन तो गुजर गये लेकिन अब पंचायत अध्यक्ष इस चिंतन में है कि आगामी छः मार्च 2022 को प्रदेश सरकार का कार्यकाल पूरा हो रहा है किसे जनता ताज सौपेगी। इस बात का संशय जिला पंचायत अध्यक्ष पद के उम्मीदवारों को भय सता रहा है। कि सात महीने के बाद सत्ता का परिवर्तन हुआ तो कैसे जिला पंचायत पर आच आयेगी। ऐसी हालात में जिला पंचायत अध्यक्ष का चुनाव दहशत भरा नजर आ रहा है। आज मतदान के बाद तीन बजे अध्यक्ष पद का ताज किसे मिला कौन जीता कौन हारा का समीकरण चंद घण्टों के बाद चर्चाओं में बदल जायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *