गोला थाने के एस आई द्वारा विपक्षी सेे साजिश कर पति को फर्जी रूप से गाजा दिखाकर चालान करने के विरुद्ध पत्नी ने लगाई एस एस पी से गुहार

एस एस पी ने एस पी दक्षिणी को सौपी जांच

ब्यूरो रिपोर्ट – हरेन्द्र यादव, गोरखपुर 
 गोरखपुर ।  गोला थाना के एक चर्चित दरोगा ने बारां नगर गांव के अतुल सिंह उर्फ मुर्गी सिंह को उनके विपक्षी के साजिश में आकर गोला थाने पर शुक्रवार को बुलाकर लॉक अप में बंद कर दूसरे दिन तेरह सौ ग्राम गाँजा दिखाकर थाने से जेल भेज दिया । जब कि अतुल सिंह का यही गुनाह था कि गुरुवार जी रात में उनके मोबाइल पर तीन बार फोन आया और गाली गुप्ता देते हुए जान से मार डालने की धमकी दी गयी ।जिसकी सूचना अतुल सिंह ने एस आई एस पी सिंह को बताया ।उन्होंने कहा सुबह आकर एक दरख्वास्त गोला थाने पर दे दो ।शुक्रवार को अतुल सिंह ने एक प्रार्थना पत्र बरिष्ठ पुलिस अधीक्षक को घटना का जरिये आई जी आर एस कर सूचित किया ।और उसके बाद गोला थाने पर जाकर हल्का दरोगा को प्रार्थना पत्र दिया ।दरोगा ने अपनी पुलिसिया भाषा का प्रयोग कर तत्काल हवालात में डाल दिया ।और दूसरे दिन साजिश कर गाँजा में चालान कर दिया ।यह पुलिसिया कार्यवाही क्षेत्र में बिजली की तरह दौड़ पड़ी ।लोगो में पुलिस बिभाग द्वारा किये गए इस कृत्य का चर्चा जोरों पर चल पड़ा ।अतुल सिंह की पत्नी रीतू सिंह अपने दुधमुहे बच्चे को लेकर सोमवार को जिला पुलिस मुखिया के दरबार मे पहुच के न्याय की गुहार लगाते हुए एक प्रार्थना पत्र देकर पीड़ा सुनाया।उन्होंने अपने द्वारा दिये गए प्रार्थना पत्र में लिखा है कि रीतू सिंह पत्नी अतुल सिंह निवासी बारा नगर थाना गोला जनपद गोरखपुर की रहने वाली हूं। हमारे पति पूर्व प्रधान प्रतिनिधि रह चुके है। बीते चुनाव के बाद हमारे विपक्षी रिंकू सिंह प्रधान पति है। यह हम प्रार्थनी के पति व परिवार से चुनावी रंजिश रखते है। दिनांक 29 जुलाईको मोबाइल नम्बर 9125202810,9936770277 से हमारे पति के मोबाइल नम्बर 7887062212 पर धमकी भरा फोन आया ।हमारे पति इस बात की सूचना देने दिनांक 30 जुलाई को स्थानीय थाना गोला पर गए थे। जहां पर जांच के नाम पर उनको एस आई एस पी सिंह द्वारा बैठा लिया गया। दरोगा एस पी सिंह का हमारे बिरोधी प्रधान पति से काफी गहरा संबंध है। उनके दबाव में दरोगा ने हमारे पति को फर्जी गाँजा के साथ शनिवार को चालान कर दिया। जो जांच का विषय है। आगे उन्होंने अपने प्रार्थना पत्र में लिखा कि श्रीमान जी से निवेदन है कि पूरे प्रकरण का निष्पक्ष जांच कराकर दोषी एस आई एस पी सिंह पर विभागीय कार्यवाही करने के साथ ही प्रार्थनी के पति के विरुद्ध लगाए गए फर्जी एन डी पी एस केस को रद्द करने की कृपा करें। जिला पुलिस मुखिया ने पीडित की पीड़ा को बखूबी सुना और पुलिस अधीक्षक ग्रामीण दक्षिणी को जांच के लिए सौप दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.