शासन के निर्देश पर तहसील मुसाफिरखाना अंतर्गत निर्माणाधीन गोमती नदी पर दीर्घ सेतु की कराई गई तकनीकी जांच।

ब्यूरो रिपोर्ट – प्रेम कुमार शुक्ल, अमेठी

अमेठी 26 अगस्त 2021, शासन के निर्देश पर तहसील मुसाफिरखाना अंतर्गत शुकुल बाजार-पाली-समदा-रुदौली मार्ग पर गोमती नदी के ऊपर निर्माणाधीन दीर्घ सेतु की तकनीकी जांच कराई गई। बताते चलें कि गत वर्ष 28 जुलाई 2020 को जिलाधिकारी श्री अरुण कुमार द्वारा उक्त निर्माणाधीन सेतु तथा पहुंच मार्ग का निरीक्षण किया गया था, निरीक्षण के दौरान कुंआ नंबर AW-02 का टिल्ट अनुमन्य सीमा से अधिक पाए जाने पर जिलाधिकारी द्वारा तीन सदस्यीय कमेटी गठित करते हुए प्रारंभिक जांच कराई गई, जिसमें गठित कमेटी द्वारा वेल कैप पर लेवल मशीन का प्रयोग कर कुआं नंबर AW-02 के टिल्ट एवं शिफ्ट का परीक्षण किया गया, परीक्षोंपरांत कुंएं का शिफ्ट 15 सेंटीमीटर से अधिक नहीं होना चाहिए था परंतु कार्यस्थल पर यह 31 सेंटीमीटर पाया गया जो अनुमन्य सीमा से पाया गया। जांचोपरांत आख्या जिलाधिकारी द्वारा शासन को प्रेषित की गई, शासन द्वारा उक्त प्रकरण को संज्ञान में लेते हुए जांच कर आख्या उपलब्ध कराने के निर्देश दिए गए हैं, तत्क्रम में मुख्य अभियंता (परिवाद) लोक निर्माण विभाग लखनऊ द्वारा निर्माणाधीन वृहद सेतु के एबटमेंट के टिल्ट की जांच हेतु तीन सदस्यीय कमेटी जिसमें अधीक्षण अभियंता सुल्तानपुर, महाप्रबंधक (प्रयागराज) उत्तर प्रदेश राज्य सेतु निगम लिमिटेड, अधिशासी अभियंता प्रांतीय खंड लोनिवि को गठित करते हुए जांच कराने के निर्देश दिए गए, उक्त गठित टीम द्वारा एबटमेंट वेल AW-02 के टिल्ट की जांच की गई जिसमें कुआं नंबर AW-02 नदी के डाउनस्ट्रीम की तरफ 31 सेंटीमीटर शिफ्ट पाया गया, यह शिफ्ट मोर्थ के अनुसार अनुमन्य सीमा 15 सेंटीमीटर से अधिक बताया गया, तथा उप परियोजना प्रबंधक, सेतु निर्माण इकाई सुल्तानपुर को कुएं के स्थायित्व की जांच की गणना आईआईटी के विशेषज्ञों से प्रूफ चेक कराकर उपलब्ध कराने के निर्देश दिए गए।अमेठी 26 अगस्त 2021, शासन के निर्देश पर तहसील मुसाफिरखाना अंतर्गत शुकुल बाजार-पाली-समदा-रुदौली मार्ग पर गोमती नदी के ऊपर निर्माणाधीन दीर्घ सेतु की तकनीकी जांच कराई गई। बताते चलें कि गत वर्ष 28 जुलाई 2020 को जिलाधिकारी श्री अरुण कुमार द्वारा उक्त निर्माणाधीन सेतु तथा पहुंच मार्ग का निरीक्षण किया गया था, निरीक्षण के दौरान कुंआ नंबर AW-02 का टिल्ट अनुमन्य सीमा से अधिक पाए जाने पर जिलाधिकारी द्वारा तीन सदस्यीय कमेटी गठित करते हुए प्रारंभिक जांच कराई गई, जिसमें गठित कमेटी द्वारा वेल कैप पर लेवल मशीन का प्रयोग कर कुआं नंबर AW-02 के टिल्ट एवं शिफ्ट का परीक्षण किया गया, परीक्षोंपरांत कुंएं का शिफ्ट 15 सेंटीमीटर से अधिक नहीं होना चाहिए था परंतु कार्यस्थल पर यह 31 सेंटीमीटर पाया गया जो अनुमन्य सीमा से पाया गया। जांचोपरांत आख्या जिलाधिकारी द्वारा शासन को प्रेषित की गई, शासन द्वारा उक्त प्रकरण को संज्ञान में लेते हुए जांच कर आख्या उपलब्ध कराने के निर्देश दिए गए हैं, तत्क्रम में मुख्य अभियंता (परिवाद) लोक निर्माण विभाग लखनऊ द्वारा निर्माणाधीन वृहद सेतु के एबटमेंट के टिल्ट की जांच हेतु तीन सदस्यीय कमेटी जिसमें अधीक्षण अभियंता सुल्तानपुर, महाप्रबंधक (प्रयागराज) उत्तर प्रदेश राज्य सेतु निगम लिमिटेड, अधिशासी अभियंता प्रांतीय खंड लोनिवि को गठित करते हुए जांच कराने के निर्देश दिए गए, उक्त गठित टीम द्वारा एबटमेंट वेल AW-02 के टिल्ट की जांच की गई जिसमें कुआं नंबर AW-02 नदी के डाउनस्ट्रीम की तरफ 31 सेंटीमीटर शिफ्ट पाया गया, यह शिफ्ट मोर्थ के अनुसार अनुमन्य सीमा 15 सेंटीमीटर से अधिक बताया गया, तथा उप परियोजना प्रबंधक, सेतु निर्माण इकाई सुल्तानपुर को कुएं के स्थायित्व की जांच की गणना आईआईटी के विशेषज्ञों से प्रूफ चेक कराकर उपलब्ध कराने के निर्देश दिए गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *