विशेष महाअभियान के अन्तर्गत व्यक्तियों को चिन्हीकृत कर की जायेगी टीकाकरण की कार्यवाही।

ब्यूरो रिपोर्ट – प्रेम कुमार शुक्ल, अमेठी

अमेठी 04 सितम्बर 2021, मुख्य चिकित्साधिकारी डा. आशुतोष दूबे ने आज अपने कार्यालय में मीडिया प्रतिनिधियों के साथ प्रेसवार्ता की। प्रेसवार्ता के दौरान बताया कि जनपद में कोविड संवेदीकरण ज्वर पीड़ित व्यक्तियों, नियमित टीकाकरण से छूटे व्यक्तियों, कोविड तथा क्षय रोग के लक्षण युक्त व्यक्तियों, नियमित टीकाकरण से छूटे बच्चों तक 45 वर्ष अधिक आयु वर्ग में कोविड टीके की पहली खुराक न प्राप्त करने वाले व्यक्तियों के चिन्हीकरण तथा सूचीबद्ध किये जाने हेतु विशेष महाअभियान दिनांक 07 सितम्बर से 16 सितम्बर 2021 तक आयोजित किया जायेगा। इसी क्रम में उन्होंने बताया कि इस अभियान में 10 दिनों तक जनपद के प्रत्येक घर में दो सदस्यीय 593 टीमों द्वारा घर-घर जाकर कोविड तथा क्षय रोग के विषय में जागरूक किया जायेगा इसके साथ ही 119 पर्यवेक्षको द्वारा टीमों का सुपरविजन किया जायेगा। उन्होंने कहा कि ज्वर, कोविड लक्षण युक्त व्यक्ति, क्षय रोग के लक्षण युक्त व्यक्ति, 0-2 वर्ष के नियमित टीकाकरण से छूटे बच्चों तथा 45 वर्ष से अधिक आयु वाले कोविड टीकाकरण की पहली खुराक से छूटे व्यक्तियों को चिन्हीकृत कर टीकाकृत किया जायेगा। उन्होंने बताया कि अभियान के दौरान यदि टीम को किसी घर में एस0ए0आर0आई0 रोगी मिलता है तो उस रोगी की पल्स आक्सीमीटर से जॉच की जायेगी तथा इसकी सूचना तत्काल पर्यवेक्षक के माध्यम से प्रभारी चिकित्सा अधिकारी को उपलब्ध कराया जायेगा तथा प्रभारी चिकित्सा अधिकारी द्वारा तत्काल एम्बुलेन्स के माध्यम से ऐसे रोगियों को डेडीकेटेड कोविड क्वारेंनटाईन ईकाई में भर्ती भी कराया जायेगा। इसके साथ ही उक्त के अतिरिक्त अभियान में विभिन्न संचारी रोगों से बचाव हेतु सोर्स रिडक्शन की कार्यवाही के अन्तर्गत प्रत्येक घर में कूलर, गमले एवं गमले के नीचे रखे प्लेट, पशु-पक्षियों के पीने के पात्र, छत पर कबाड़, पुराने टायर, फ्रिज के पीछे की ट्रे, टूटे बर्तन में जल जमाव की स्थिति आदि का विनष्टीकरण करते हुए कोविड-19 के संक्रमण एवं बचाव के तरीकों के विषय में उन्हें जागरूक किया जायेगा साथ ही चिन्हीकृत किये गये ज्वर से पीड़ित व्यक्तियों की स्लाइड बनायी जायेगी व डेंगू की जांच करायी जायेगी, कोविड लक्षण युक्त व्यक्तियों की सैम्पलिंग, क्षय रोग के लक्षण वाले व्यक्तियों के बलगम की जांच तथा 0-2 वर्ष के नियमित टीकाकरण से छूटे बच्चों तथा 45 वर्ष अधिक आयु वाले कोविड टीकाकरण की पहली खुराक से छूटे हुए व्यक्तियों को टीकाकृत किया जायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *