जिलाधिकारी विशाल भारद्वाज के नेतृत्व में आजमगढ़ में स्कूलों और विश्वविद्यालय का संज्ञानात्मक निरीक्षण

संवाददाता- राजेश गुप्ता, आजमगढ़, उत्तर प्रदेश आजमगढ़ – जिलाधिकारी विशाल भारद्वाज ने अपने साप्ताहिक कार्यक्रम के दृष्टिगत आज प्राथमिक विद्यालय चक्रपानपुर जहानागंज, इंग्लिश मीडियम प्राइमरी स्कूल कम्हरिया मेंहनगर आजमगढ़ का निरीक्षण किया गया। जिलाधिकारी ने विद्यालय में पहुंचकर बच्चों से उनके ड्रेस के बारे में पूछा। जिस पर टीचर द्वारा बताया गया कि ड्रेस के […]

Continue Reading

जिलाधिकारी विशाल भारद्वाज के नेतृत्व में आयोजित बैठक में स्थानीय विकास एवं स्वनिधि योजना पर जोर, लंबित आवेदनों के निस्तारण की रफ्तार को बढ़ावा

संवाददाता- राजेश गुप्ता, आजमगढ़, उत्तर प्रदेश आजमगढ़ – जिलाधिकारी विशाल भारद्वाज ने कहा कि प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना के लिए ऋण हेतु किए गए लंबित आवेदनों का निस्तारण तत्काल सुनिश्चित किया जाए। उन्होंने कहा कि बैंकों से समन्वय बनाकर ऋण का वितरण कराना सुनिश्चित किया जाए। उन्होंने कहा कि प्रथम एवं द्वितीय किश्त का भुगतान कर […]

Continue Reading

बाल मजदूरी की रोकथाम को लेकर टीम ने की छापेमारी

संवाददाता- राजेश कुमार गुप्ता, आज़मगढ़ आज दिनांक 31.01.2024 को निदेशक, मुख्यालय महिला एंव बाल सुरक्षा संगठन, उ0प्र0 लखनऊ के निर्देशन में बाल श्रम, बाल भिक्षावृत्ति की रोकथाम एवं बन्धुआ मजदूर से लोगों को मुक्त कराने का अभियान के अन्तर्गत वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक आजमगढ़ के कुशल निर्देशन में एवं नोडल अधिकारी एएचटीयू अपर पुलिस अधीक्षक यातायात […]

Continue Reading

केंद्रीय मंत्री श्री प्रल्हाद जोशी ने कोल इंडिया के तीन सीएसआर पहलों का उद्घाटन किया

केंद्रीय कोयला, खान और संसदीय मामलों के मंत्री, श्री प्रल्हाद जोशी ने 31जनवरी,2024 को एजुकेशनल कंसल्टेंट्स लिमिटेड (ईडीसीआईएल), नेशनल स्किल डेवलपमेंट कॉरपोरेशन और टाटा स्ट्राइव के सहयोग से कोल इंडिया लिमिटेड की कॉर्पोरेट सामाजिक जिम्मेदारी के रूप में की जा रही तीन पहलों का उद्घाटन किया। यह प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के ‘विकसित भारत’ और […]

Continue Reading

भारतीय नौसेना ने 2024 की ‘नौसेना असैन्य वर्ष’ के रूप में घोषणा की

भारतीय नौसेना ने समयबद्ध तरीके से नागरिक मानव संसाधन प्रबंधन के सभी पहलुओं का समाधान करने के क्रम में नौसेना के असैन्य लोगों के प्रशासन, दक्षता और कल्याण में सुधार के लिए 2024 को ‘नौसेना असैन्य वर्ष’ घोषित किया है। 2024 में कार्यान्वयन के लिए प्रशासनिक दक्षता, डिजिटल पहल, सामान्य और विशिष्ट प्रशिक्षण कार्यक्रमों और कल्याणकारी गतिविधियों को अधिकतम करने […]

Continue Reading

कर्टेन रेजर: Y-3025 (संध्याक) का कमीशनिंग

भारतीय नौसेना 3 फरवरी 24 को विशाखापट्टनम में नौसेना डॉकयार्ड में अपने सबसे नए सर्वे बेसल संध्याक को मुख्य अतिथि के रूप में माननीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और विशिष्ट अतिथि के रूप में नौसेना प्रमुख एडमिरल आर हरि कुमार की उपस्थिति में कमीशन करने के लिए पूरी तरह तैयार है। वाइस एडमिरल राजेश पेंढारकर, […]

Continue Reading

राष्ट्रीय सुशासन वेबिनार – 2023-24: ‘खेलो इंडिया योजना’ पर 20वां वेबिनार सफलता से आयोजित

राष्ट्रीय सुशासन वेबिनार श्रृंखला – 2023-24 का 20वां वेबिनार 31 जनवरी, 2024 को निर्दिष्ट विषय (थीम) – ‘खेलो इंडिया योजना के माध्यम से खेल और कल्याण में उत्कृष्टता को बढ़ावा देना’ के साथ आयोजित किया गया था I वर्ष 2021 के लिए प्रधानमंत्री पुरस्कार से सम्मानित चूरू, राजस्थान और बिष्णुपुर, मणिपुर जिलों द्वारा की गई निम्नलिखित पहलों पर प्रस्तुतियाँ दी गईं- खेलो इंडिया योजना के अंतर्गत जिला चूरू में की गई […]

Continue Reading

डीएवाई-एनआरएलएम का अनूठा प्रयास: 9.96 करोड़ सदस्यों के लिए एसएचजी कार्यशाला

ग्रामीण विकास मंत्रालय (एमओआरडी) के दीनदयाल अंत्योदय योजना – राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (डीएवाई-एनआरएलएम) ने दो दिवसीय क्षेत्रीय कार्यशाला का आयोजन किया, जिसमें 17 राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन (एसआरएलएम) के साथ-साथ अन्य प्रमुख हितधारकों ने पूरे भारत में स्वयं सहायता समूहों के 9.98 करोड़ से अधिक सदस्यों और उनके परिवारों के लिए भोजन, पोषण, स्वास्थ्य और वॉश (एफएनएचडब्ल्यू) परिणामों में सुधार के लिए रोडमैप पर विचार-विमर्श किया। कर्नाटक के चिकित्सा शिक्षा और कौशल विकास, उद्यमिता एवं आजीविका मंत्री डॉ. शरणप्रकाश रुद्रप्पा पाटिल कार्यशाला के मुख्य अतिथि थे। इस अवसर पर कौशल विकास, उद्यमिता एवं आजीविका विभाग, कर्नाटक की अतिरिक्त मुख्य सचिव सुश्री उमा महादेवन और ग्रामीण विकास मंत्रालय की संयुक्त सचिव सुश्री स्मृति शरण भी उपस्थित थीं। डॉ. शरणप्रकाश रुद्रप्पा पाटिल ने गरीबी उन्मूलन कार्यक्रमों की सफलता के लिए महिलाओं की प्रतिबद्धता और समर्पण को स्वीकार किया। उन्होंने कहा कि सैनिटरी नैपकिन के उत्पादन जैसी आय सृजन गतिविधियां एसएचजी महिलाओं द्वारा की जा सकती हैं जो उन्हें स्थायी आजीविका प्रदान करेंगी। उन्होंने कहा कि एसएचजी उत्पादों के विपणन और बैंकों के साथ जुड़ाव की सुविधा जैसे ठोस कदम महिला समूहों की ताकत को और मजबूत करेंगे। महिला समूहों की क्षमता की सराहना करते हुए सुश्री उमा महादेवन ने कहा कि स्वयं सहायता समूहों को कर्नाटक में 6000 से अधिक ग्राम पंचायतों में महिलाओं का एक माध्यम होना चाहिए। दैनिक गतिविधियों को निष्पादित करने के तरीके में अनुशंसित व्यवहार परिवर्तन को अपनाकर महिलाएं प्रभावशाली बन जाती हैं। उन्होंने आगे उल्लेख किया कि महिला समूहों के माध्यम से एफएनएचडब्ल्यू हस्तक्षेप में अभिसरण की काफी संभावनाएं हैं।   डीएवाई-एनआरएलएम में एफएनएचडब्ल्यू एकीकरण की आवश्यकता के लिए संदर्भ निर्धारित करते हुए, सुश्री स्मृति शरण ने कहा कि लोगों को गरीबी से बाहर रखने के लिए बहुआयामी गरीबी एक महत्वपूर्ण बाधा है। पर्याप्त पोषण वाले राष्ट्र की दिशा में आगे बढ़ने और महिलाओं के लिए आजीविका बढ़ाने के लिए एफएनएचडब्ल्यू हस्तक्षेपों की महत्वपूर्ण उपस्थिति है। उन्होंने कहा कि ग्रामीण समुदायों के बीच बेहतर पोषण, स्वास्थ्य और स्वच्छता पहलुओं में महत्वपूर्ण योगदान देने के लिए ग्रामीण विकास मंत्रालय संबंधित मंत्रालयों के साथ सहयोग करेगा।   कॉन्क्लेव का उद्देश्य ग्रामीण समुदायों के स्वास्थ्य, पोषण और वॉश की स्थिति में सुधार के लिए डीएवाई-एनआरएलएम के तहत देश भर में स्वयं सहायता समूहों (एसएचजी) की महिलाओं द्वारा चल रहे प्रयासों और हस्तक्षेपों से प्राप्त सीख को समेकित करना है। महिलाओं के नेतृत्व वाले स्वयं सहायता समूहों और उसके संगठन सामाजिक व्यवहार परिवर्तन; वर्ष भर पौष्टिक भोजन की खपत के लिए कृषि-पोषक उद्यानों के निर्माण को बढ़ावा देना; बेहतर पोषण और स्वास्थ्य परिणाम प्राप्त करने के लिए लाइन विभागों के फ्रंट लाइन कार्यकर्ताओं के सहयोग से अधिकारों और सेवाओं तक पहुंच की सुविधा प्रदान करने के माध्यम से स्वास्थ्य संबंधी व्यवहार को बढ़ावा देते हैं। यह सम्मेलन एफएनएचडब्ल्यू की उपलब्धियों को संक्षेप में प्रस्तुत करने; राज्यों में एफएनएचडब्ल्यू गतिविधियों को लागू करने के लिए प्रभावी रणनीति दस्तावेज़ स्थापित करने के लिए एक दिशानिर्देश का मसौदा तैयार करने; एसएचजी के प्रयासों की प्रभावकारिता और पहुंच को बढ़ाने के लिए नवाचारों और अनुसंधान पर विचार करने के अलावा मौजूदा ऑन-ग्राउंड एफएनएचडब्ल्यू हस्तक्षेपों का समर्थन करने के लिए लाइन विभागों और विकास भागीदारों के साथ सहयोग को सुव्यवस्थित करने के लिए विचार-विमर्श की श्रृंखला में दूसरा सम्मलेन था। विभिन्न राज्य ग्रामीण आजीविका मिशनों; महिला एवं बाल विभाग; स्वास्थ्य; साथ पेयजल और स्वच्छता के अधिकारीयों के साथ-साथ सामुदायिक संसाधन व्यक्तियों (सीआरपी) ने ग्रामीण समुदायों में पोषण और स्वास्थ्य की बेहतर स्थिति के लिए महिलाओं के नेतृत्व वाले एसएचजी नेटवर्क द्वारा की गई व्यापक गतिविधियों पर प्रकाश डाला और उनके जमीनी अनुभव और यात्रा साझा की।   विशेषज्ञों, शोधकर्ताओं, शिक्षाविदों, सामान्य लक्ष्य रखने वाली विकास एजेंसियों और संबंधित विभागों के साथ एक इंटरैक्टिव पैनल चर्चा में ग्रामीण समुदायों को अच्छे स्वास्थ्य और बेहतर आजीविका के अवसरों के साथ सक्षम बनाने के लिए एफएनएचडब्ल्यू पहलुओं को मजबूत करने पर चर्चा की गई। तमिलनाडु, ओडिशा और कर्नाटक के तीन सामुदायिक संसाधन व्यक्तियों ने संबंधित अनुभवों को साझा करते हुए एफएनएचडब्ल्यू की ऑन-ग्राउंड गतिविधियों पर विचार किया, जिससे समुदायों में प्रभावी परिणाम आए। एक प्रदर्शनी-सह-बाज़ार में एफएनएचडब्ल्यू रणनीतियों जैसे पोषण वाटिका, उद्यमों द्वारा उत्पाद, व्यवहार जो सामाजिक विकास की ओर ले जाते हैं आदि की सर्वोत्तम प्रथाओं और मॉडलों को प्रदर्शित किया गया।

Continue Reading

मेरा युवा भारत पोर्टल पर तीन महीनों में पंजीकरण करने वाले युवाओं की संख्‍या 1.45 करोड़ के पार

मेरा युवा भारत (माय भारत) पोर्टल ने 31 जनवरी 2024 तक 1.45 करोड़ से अधिक पंजीकरणों के साथ महत्‍वपूर्ण उपलब्धि हासिल की है। ऐसा इस पोर्टल के उपयोगकर्ता के अनुकूल इंटरफेस के कारण संभव हो सका है जो कुछ ही मिनटों में पंजीकरण की प्रक्रिया पूर्ण कर देता है। यह पोर्टल पहले से ही देश के युवाओं को रचनात्मक और परिवर्तनकारी प्रयासों […]

Continue Reading

1990 बैच के भारतीय विदेश सेवा के संजय वर्मा ने संघ लोक सेवा आयोग के सदस्य के रूप में पद और गोपनीयता की शपथ ली

1990 बैच के भारतीय विदेश सेवा के श्री संजय वर्मा ने आज दोपहर यूपीएससी के मुख्य भवन के सेंट्रल हॉल में संघ लोक सेवा आयोग के सदस्य के रूप में पद और गोपनीयता की शपथ ली। उन्हें संघ लोक सेवा आयोग के चेयरमैन डॉ. मनोज सोनी ने शपथ दिलाई। श्री संजय वर्मा 1990 में भारतीय विदेश सेवा में शामिल हुए और उनके विदेश से संबंधित कार्यों में ये शामिल हैं: स्पेन और अंडोरा में राजदूत; इथियोपिया, जिबूती और अफ्रीकी संघ में राजदूत; महावाणिज्य दूत, दुबई; काउंसलर (आर्थिक और वाणिज्यिक), भारतीय दूतावास, बीजिंग; प्रवक्ता और परामर्शदाता (प्रेस, सूचना और संस्कृति), भारतीय दूतावास, काठमांडू; द्वितीय सचिव (प्रेस और राजनीतिक), भारतीय दूतावास, मनीला और आर्थिक और वाणिज्यिक अधिकारी, हांगकांग। विदेश मंत्रालय से संबंधित कार्यों में ये शामिल हैं: चीन डेस्क; प्रवक्ता के सहयोगी (ओएसडी); संयुक्त सचिव (डीजी), ऊर्जा सुरक्षा और प्रोटोकॉल प्रमुख। मुंबई से ताल्लुक रखने वाले, उन्होंने विल्सन कॉलेज से पढ़ाई की और फिर मुंबई विश्वविद्यालय के जय हिंद कॉलेज से अर्थशास्त्र में स्नातक की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय, नई दिल्ली से अंतर्राष्ट्रीय अध्ययन में स्नातकोत्तर की उपाधि प्राप्त की है। उन्होंने भारत के विश्वविद्यालय अनुदान आयोग से अंतर्राष्ट्रीय अध्ययन में फ़ेलोशिप प्राप्त की और पहले दोराबजी टाटा छात्रवृत्ति के प्राप्तकर्ता थे।   एक विश्वविद्यालय स्तर के हॉकी खिलाड़ी, उनकी रुचि पढ़ने, संगीत, लोकप्रिय भारतीय संस्कृति और फिल्मों में है।

Continue Reading