बसपा सुप्रीमों मायावती ने मण्डल स्तर की विशाल जनसभा को किया सम्बोधित

बस्ती : बसपा सुप्रीमों मायावती बस्ती जिले के जीआईसी ग्राउण्ड में पहुंची, उन्होंने मण्डल स्तर की विशाल जनसभा को सम्बोधित किया, बस्ती मण्डल की 13 विधानसभाओं पर 3 मार्च को मतदान होगा, उन्होंने बीजेपी,सपा और कांग्रेस पर जमकर हमला बोला, बसपा सुप्रीमों ने कहा की हमारी सरकार आने पर केन्द्र और यूपी सरकार के विवादित नियमों और कानूनों को लागू नहीं करने दिया जाएगा, बीएसपी की सरकार बनने पर सपा और भाजपा के शासन काल की तरह कानून व्यवस्था को खराब व लचर नहीं होने दिया जाएगा, कानून का फिरसे राज कायम किया जाएगा, जाति व धर्म के आधार पर लोगों का शोषण व उत्पीडन नहीं होने दिया जाएगा, जैसा की वर्तमान भाजपा सरकार में हो रहा है, खासकर कानून व्यवस्था को अच्छा बनाने के लिए जाति व दलगत से ऊपर उठकर यहां गुण्डों बदमाशों, माफियाओं और अन्य अपराधियों को जेल की सलाखों के पीछे भेजा जाएगा, मेरी सरकार में इन की जेल के बाहर नहीं जेल के अन्दर सही जगह होती है, वर्तमान भाजपा सरकार ने जाति धर्म व राजनीतिक द्वेष की भावना के तहत जिन लोगों को खास कर धरना प्रदर्शन करने पर जबरदस्ती गलत आरोपों में फंसा कर उन पर अनोकों केस लगाए हैं, उन की जांच कर केस को वापस लिया जाएगा,

वहीं बसपा सुप्रीमों मायावती ने सरकार बनने पर पुरानी पेंशन बहाल करने की बात कही, उन्होंने कहा की खासकर शिक्षा के क्षेत्र में और उन्य विभागों को कर्मचारी जो आए दिन अपनी मांगों को लेकर धरना प्रदर्शन करते हैं उन के लिए एक आयोग गठित कर समस्याओं का निस्तारण किया जाएगा, उन की सही मांगों को माना जाएगा, जिसमें कर्मचारियों की पुरानी पेंशन को बहाल किया जाएगा

वहीं बसपा सुप्रीमों ने बसपा को भाजपा की बी टीम कहने वालों पर भी जमकर हमला बोला, उन्होंने कहा की चुनाव में बसपा के बढ़ते ग्राफ को देखते हुए विपक्षी बसपा को बीजेपी की बी टीम कह रहे हैं, जिसमें रत्तीभर भी सच्चाई नहीं है, अगर बीएसपी बीजेपी की बीटीम होती तो सपा ने एक बार विधानसभा और एक बार लोकसभा का चुनाव मिल कर क्यों लड़ा था, मलायम सिंह ने जब संसद में भाजपा को जीत का आशिर्वाद देने आदि को थोड़ी देर के लिए भुला भी दिया जाए तो भी खसकर मुलायम सिंह यादव का सन 1977 में बीजेपी के साथ यूपी की सरकार में बने रहना तथा कल्याण जी के साथ उन का गले मिलना तथा 2003 में मेरे सरकार छोड़ने के बाद बीजेपी के सहयोग से यूपी की सत्ता में अचानक आ जाना यहां के लोग कैसे भुला सकते हैं, सपा की तरह कांग्रेस पार्टी ने भी केन्द्र में कई बार बीएसपी का समर्थन क्यों लिया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *